कैलाश जोशी अकेला

देहरादून। उत्तराखंड में 2014 लोकसभा चुनाव में सभी पांच सीट हारने वाली कांग्रेस ने सोमवार को कहा कि पहाड़ी राज्य में 11 अप्रैल को होने वाले चुनाव के लिए सभी पांच उम्मीदवारों के चयन पर अंतिम फैसला पार्टी आलाकमान लेगा। पार्टी सूत्रों के अनुसार उत्तराखण्ड में पूर्व मुख्य मंत्री हरीश रावत से कांग्रेस पूरे चुनाव में किनारा करने के की फिराक में घूम रही है। क्योकिं हरीश के कारण ही उत्तराखण्ड के कई कांग्रेस दिग्गज पार्टी का दामन छोड भाजपा में शाामिल हुए थे। बताया जा रहा है कि पार्टी आलाकमान हरीश रावत को उत्तराखण्ड के चुनाव में दाखिल होने देगी। इसपर अभी संस्पेंस बना हुआ है।
प्रदेश कांग्रेस समिति (पीसीसी) के अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने कहा कि राज्य कांग्रेस की स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक हो चुकी है और अब पार्टी हाईकमान द्वारा अंतिम फैसला लिया जाएगा। संभावित उम्मीदवारों के रूप में कितने लोगों को चुना गया है, इस पर प्रीतम सिंह ने कुछ कहने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि वो इससे ज्यादा कुछ भी खुलासा नहीं कर सकते।
बता दें कि कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि कहा कि सतपाल महाराज और विजय बहुगुणा जैसे शीर्ष नेताओं के पार्टी छोड़ने के बाद कांग्रेस सही उम्मीदवारों के चयन को लेकर पसोपेश में है. वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत इस बार चुनाव लड़ने को इच्छुक हैं लेकिन उन्होंने इस बात का खुलासा नहीं किया है कि वे किस सीट से चुनाव लड़ेंगे. उधर, रावत के एक करीबी सूत्र ने कहा है कि वह अंतिम वक्त तक सस्पेंस बरकरार रखेंगे।
इसी तरह, पार्टी के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष किशोर उपाध्याय टिहरी से चुनाव लड़ना चाहते हैं। उन्होंने इस संबंध में सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार शुरू कर दिया है. प्रीतम सिंह भी टिहरी से चुनाव लड़ने के इच्छुक बताए जा रहे हैं।
उधर, कांग्रेस अल्मोड़ा से प्रदीप टम्टा को फिर से उम्मीदवार बना सकती है. कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि हालांकि टम्टा 2014 में हार गए थे लेकिन वो फिर भी मानते हैं कि वह अल्मोड़ा के एक मजबूत उम्मीदवार हैं। नैनीताल, पौड़ी और हरिद्वार सीट के लिए उम्मीदवारों पर सस्पेंस बरकरार है।
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह का कहना है कि पार्टी के सभी पांच उम्मीदवारों के नाम का खुलासा जल्द ही किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सक्षम नेतृत्व के अंतर्गत हम सभी एकजुट हैं और इस बार शानदार प्रदर्शन देंगे।
गौर हो कि पहाड़ी राज्य की सभी पांच सीटों पर मतदान 11 अप्रैल को होगा. चुनाव में पार्टी किन-किन मुद्दों को उठाएगी, इस पर प्रीतम सिंह ने कहा कि चुनाव राष्ट्रीय व राज्य मुद्दों, दोनों पर लड़ा जाएगा।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का प्रदर्शन बहुत खराब रहा है. यह निश्चित रूप से एक मुद्दा है, लेकिन इस दौर में आतंकवाद, गैस की बढ़ती कीमतें और बढ़ती बेरोजगारी जैसे मुद्दे भी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here