देहरादून। हमेशा से ही शांत माना जाने वाला राज्य उत्तराखंड अब धीरे-धीरे पश्चिमी यूपी के अपराधियों की पनाहगाह बनता जा रहा है। उत्तराखंड में पहले भी चेन छीनी जाती रही है, लेकिन किसी भी लूट में तमंचे का इस्तेमाल नहीं किया गया। इस साल दून में तीन वारदातों में चेन स्नेचिंग के लिए तमंचा इस्तेमाल किया गया।इसमें से एक घटना में चेन छीनने के लिए बदमाशों ने महिला पर तमंचे से फायरिंग कर दी थी। पुलिस का मानना है कि अपराध का यह तरीका मूल रूप से पश्चिमी यूपी के अपराधियों का है। उन्होंने कहा कि हालांकि इस बारे में स्थिति अभी साफ होना बाकी है। यह कोई स्थानीय अपराधी भी कर सकता है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक देहरादून के पेट्रोल पंप मालिक गगन भाटिया को गोली मारकर लाखों का कैश लूटने की वारदात में बिजनौर के अपराधी शामिल थे। इसी तरह ऑनलाइन कंपनी के ऑफिस में डकैती करने वालों में सहारनपुर के बदमाश शामिल थे। इतना ही नहीं क्लेमेंटाउन, नेहरू कॉलोनी और पटेलनगर की चोरी में भी पश्चिमी यूपी के अपराधियों का हाथ था। उत्तराखंड में आए दिन तमंचों के बल पर लूटपाट, चोरी, चेन स्नेचिंग और डकैती की घटनाएं सामने आ रही हैं। हमेशा से ही शांत माना जाने वाला राज्य उत्तराखंड अब धीरे-धीरे पश्चिमी यूपी के अपराधियों की पनाहगाह बनता जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here