Sunday, May 19, 2019

बैढंगें चल रहे घोड़े खच्चरों से पैदल तीर्थयात्रियों को परेशानी

रूद्रप्रयाग। बाबा केदारनाथ मंदिर के कपाट खुलने के बाद हजारों की संख्या में श्रद्धालु केदारनाथ पहुंच रहे हैं। केदारनाथ धाम जाने के लिए गौरीकुंड...

पहाड़ों की खूबसूरती पर बदनुमा दाग बद्रीनाथ हाईवे पर उड़ रहे...

देेहरादून। चार धाम यात्रा पर आने वाले यात्रियों में पहाड़ की खूबसूरत वादियों को लेकर जो सपने आंखों में तैर रहे हैं। वो तब...

शनिवार सुबह केदारनाथ में हल्की बर्फ की फुहारें गिरी

देहरादून। शुक्रवार देर शाम को मौसम के करवट बदलने के बाद शनिवार की सुबह केदारनाथ में एक बार फिर हल्की बारिश के साथ बर्फ...

वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच पूरे विधिविधान के साथ खुले बदरीनाथ के कपाट

देहरादून। बीते रोज बाबा केदारनाथ के कपाट खुलने के बाद शुक्रवार मेष लग्न में सुबह चार बजकर 15 मिनट पर वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच...

चारधाम यात्रा के दौरान अगर लगा जाम, तो पुलिसकर्मी होंगे सस्पेंड

देहरादून। हर साल चारधाम यात्रा के समय हरिद्वार के सिंह द्वार से लेकर तपोवन तक लगने वाले ट्रैफिक जाम से हजारों तीर्थयात्रियों को दिक्कतों...

कपाट खुलते ही बाबा केदारनाथ के दर्शन करने पहुंचीं राज्यपाल

रुद्रप्रयाग। बाबा केदारनाथ धाम के कपाट गुरुवार सुबह 5.35 बजे श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए. कपाट खुलते ही हजारों श्रद्धालुओं ने बाबा के...

केदारनाथ धाम का इतिहास 400 सालों तक बर्फ में दबा रहा मंदिर

देहरादून। बारह ज्योतिर्लिंगों में सबसे महत्वपूर्ण केदारनाथ धाम देश के प्रमुख तीर्थस्थलों में शामिल है। 85 फुट ऊंचा, 187 फुट लंबा और 80 फुट...

 शिव के आगे प्रकृति ने भी मानी हार

कैलाश जोशी अकेला देहरादून। यह चमत्कार नहीं तो क्या था...जिस आपदा ने पूरी केदार घाटी को तहस-नहस कर दिया था वो बाबा के मंदिर को...

चार धाम के नाम इतिहास कहानी

कैलाश जोशी अकेला चार धाम को महाभारत में पांडवों के द्वारा “बद्रीनाथ”, “केदारनाथ”, “गंगोत्री” और “यमुनोत्री” के रूप में परिभाषित किया गया है। पांडवों का...

केदारनाथ पैदल मार्ग पर हिमस्खलन का खतरा

रूद्रप्रयाग। केदारनाथ पैदल मार्ग के चार स्थानों पर 20 फीट से अधिक बर्फ काटी गई है। इन स्थानों पर पहाड़ी से हिमस्खलन का खतरा...

Recent Posts