यहां पर बच्चे फर्श पर बैठकर बोर्ड परीक्षा दे रहे हैं

0
420

देहरादून – प्रदेश की क्या हालत है वो शिक्षा महकमे से पता लगाया जा सकता है वैसे तो उत्तराखंड में हर व्यवस्था को दूरस्थ करने के बड़े बड़े दावे किए जाते रहे है किंतु उत्तराखंड में शिक्षा व्यवस्था को पटरी पर लाने का दावे करने वाले प्रदेश के शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे को एक बार राजकीय इंटर कॉलेज क्वैरला अल्मोड़ा जरूर जाना चाहिए. क्योंकि यहां की हालत देखकर वो एक बार अपने दावों की हकीकत जान सकेंगे. यहां पर बच्चे फर्श पर बैठकर बोर्ड परीक्षा दे रहे हैं

. तमाम लम्बे-चौड़े दावों की सच्चाई यही है.
बता दें कि उत्तराखंड बोर्ड की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं एक मार्च से शुरू हो चुकी हैं. बोर्ड परीक्षा में सभी व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने का दावा करने वाला सिस्टम एक बार कटघरे में खड़ा है. बोर्ड की परीक्षा में केन्द्रों का निर्धारण करते समय इस बात का विशेष तौर पर ध्यान में रखना होता है कि विद्यालय में सभी जरूरी संसाधन अनिवार्य रूप से उपलब्ध हों. यदि किसी केन्द्र पर फर्नीचर आदि की कमी है तो उसे पूरा करने का निर्देश अधिकारियों द्वारा दिया जाता है. परीक्षा शुरू होने से पहले बड़े-बड़े दावे किए गये कि सभी केन्द्रों पर पर्याप्त फर्नीचर उपलब्ध है. परीक्षार्थियों को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होने दी जाएगी. लेकिन जब परीक्षा शुरू हुई तो सच्चाई सामने आने लगी है. यहां कॉलेज में परीक्षार्थियों के बैठने के लिए टेबल-कुर्सी तक नहीं है.
एसा ही एक मामला सामने आया है अल्मोड़ा के सल्ट विकासखंड के राजकीय इंटर कॉलेज क्वैरला का. यहां परीक्षार्थियों के बैठने के लिए टेबल-कुर्सी भी नहीं है. इसीलिए उन्हें फर्श पर बैठकर परीक्षा देनी पड़ रही है. कुछ बच्चों को खुले आसमान के नीचे कॉलेज के मैदान में बैठाया गया है. बर्फबारी के बाद इस क्षेत्र में इन दिनों काफी ठंड पड़ रही है. ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि परीक्षार्थी किन हालातों में परीक्षा दे रहें हैं और उन्हें किन दिक्कतों से जूझना पड़ रहा होगा.जब इस बारे में मुख्य शिक्षा अधिकारी जगमोहन सोनी से बात की गई तो उन्होंने कहा कि इस बात की जानकारी उन्हें मिली है. स्कूल के प्रधानाचार्य ने उन्हें इस बारे में नहीं बताया था. जानकारी मिलते ही शिक्षा विभाग ने स्कूल को कुर्सी टेबल के लिए 2 लाख रुपये दे दिए हैं. जिससे स्कूल की जरूरतों को पूरा किया जा सके अब ऐसे समय मे इन बच्चेचों की सुध लेेंने वााला कोई नहीं है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here