भेड़ पालकों के प्रति कितने भी वादे करे सरकार

0
262

राजेन्द्र सिह चौहान मोरी

भेड़ पालकों को भी राज्य सरकार द्वारा राज्य स्तर पर भेड़ पालकों को परस्ती प्रमाण पत्र उनके मनोबल बढ़ाने के लिए प्रोत्साहन मिलना चाहिए।*
भेड़ पालकों के प्रति कितने भी वादे करे सरकार आखिर सच्चाई छुपती नही यहां पर सरकार हो या प्रशासन भैंस के आगे वीन बजाने वाली बात सच साबित होती है।।
भेड़ पालकों के तीन महा आषाढ़,सावन,भादों(जुलाई,अगस्त,सितम्बर) की ये अनोखी परम्परागत मन को झकजोर करने वाला समय आप इन तस्वीरों व वीडियो में देख सकते है-
जहां पर सरकार व प्रशासन की कोई महत्वपूर्ण भूमिका नही होती है,तीन महा का ये मन को छू जाने वाला समय परिवार व अपनों से दूर रहकर भेड़,बकरी चुगान के लिए *सीमाओं* पर जाने के लिए मजबूर होते है।जहां पर भोजन बनाने के लिए भी *लकड़ी* नही मिलती है जहां तक भी नजर लगे लकड़ी दूर-दूर तक नही दिखती है,यहां के लिए लकड़ी भी *कटे व झोलाओं* में भरकर कई दूरी से ले जाई जाती है,जिसको कई दिनों तक उपयोग में लाया जा सके, यहां तक कि स्वास्थ्य परीक्षण के लिए भी तीन महा का फास्टेड बॉक्स भी सामान्य ज्ञान के उपयोग से सुख-दुख में उपयोग में किया जाता है। परतु यहां की वादियों की कुछ ऐसी शक्ति है कि कभी सायद फास्टेड बॉक्स का इस्तेमाल कम ही उपयोग में होता है।
खाने के लिए एक ही समय मे भेड़ पालकों के सहयोगियों द्वारा खाद्यान्न सामग्री पहुंचा दी जाती है,रास्तों में रसियों के सहारे पिघलते गिलेसियारों के पानी को काटना नामुमकिन नही मुसकिलों का सामना कर उठाना पड़ता है।
सरकार अगर कुछ महत्वपूर्ण जगहों में पुल व कुछ जगहों में रास्तों को ठीक किया जाए जिससे आने जाने में सुभिधा हो सके ।।भेड़ पालक बिनक सिंह पंवार का कहना है कि 20 जंगलों में भेड़ पालक अपने-अपने दिए हुए जंगलों में चरान,चूंगान करते है,जिसके एवज में गांव वासियों को पैसे दिए जाते है? प्रतेयक भेड़, बकरी का 10-20रुपये के हिसाब से समन्धित निकट गांव वासियों को चरान-चूंगान का पैसा देना पड़ता है।।
बालिपास* के समीप के कुछ तस्वीरों व *थांगा* *रेवसाडा* *बालिपास घाटी* , *गिट* ,सीमा,चाइना,चारसिंघ उत्तराखंड।
अटव,जीतू का चौरा, बुजलाऊँग,सेती,तयरेवसुडो,विशिकह,देववासिक,ऊपरीथांगों,तयथागों,छोनी, बनों, गिगोंन, मोलकोटा,बन्या, रापू,चापू, रास,दाड़, टाटको,धिनोढक, कटकह जहाँ से रूपिन नदी का उद्गम भी है।
को जोड़ने वाली नदी में कुछ इस अंदाज में सफर कर सकते है।
भेड बकरी पालकों में दपत्तर सिंह पंवार,राजेन्द्र सिंह,बाबूराम सिंह,मण्डल सिंह,विपिन सिंह, शिवराम सिंह अनेकों भेड़ पालको का जता शामिल।।
सभी के तीन महा की अवधि के काटने के स्वास्थ्य लाभ की कामनायें करते हैं ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here