आज भी वंचित है मूल सुविधाओं से लोग

0
277

राज्य बनने के बाद भी  उत्तराखंड के कई ऐसे  गांव  आज भी  मूलभूत सुविधाओं से वंचित  हैं आजादी के 72 साल बाद भी उत्तराखंड में कई ऐसे गांव है जहा के लोग आज भी सुख सुविधाओं से वंचित है। आलम ये है कि लोगो को कई किलोमीटर दूर पैदल चलकर जाना पड़ता है,ऐसे में अगर कोई बीमार हो जाय तो उसे अस्पताल तक पहुचाने में इतना समय लग जाता है कि वह रास्ते मे ही दम तोड़ देते है। कई गाँवो की हालत तो ऐसी है कि वहाँ पैदल चलने वाले मार्ग भी सुरक्षित नही है,कही रास्तो पर पुल नही है तो कहीं रास्ते पूरी तरह टूट चुके है,लिहाजा इसका भी कि राज्य सरकार इस मामले पर चुपी तोड़े बैठी है। ये बात भी किसी ने सच ही कहि है कि पहाड़ का दर्द पहाड़ में रहने वाले लोग ही समझ सकते है,इसलिए शायद सरकार इस ओर ध्यान नही दे रही है। ये जो तस्वीरे आपको दिख रही है ये उत्तराखंड के ही एक गांव की है,जहा अचानक एक औरत की तबीयत खराब हो गयी,सड़क मार्ग न होने के कारण गांव के लोग उन्हें पैदल ही अस्पताल ले गए। ये हालात सिर्फ एक गांव की नही है बल्कि उत्तराखंड के अन्य गांव के लोग भी इसी समस्या से जूझ रहे है,जिसका दर्द कोई नही समझ पा रहा है। ऐसे में सरकार से क्या उम्मीद की जाए कि आने वाले कल में पहाड़ में रह रहे उन पहाड़ वासियों के दर्द को समझने के लिए कोई ऐसा मुख्यमंत्री या फिर नेता उत्तराखंड में पैदा होगा सबसे बड़ी विडंबना यह है कि इन 19 सालों में उत्तराखंड राज्य को जिस दिशा में जाना था उस दिशा में न जाकर उत्तराखंड किसी और दिशा में भटक चुका है देखने वाली बात यह होगी कि प्रदेश की दिशा व दशा को समझने वाला कोई तो नेता आखिर इस धरती पर पैदा होगा इंतजार है उस समय का जिस वक्त इस प्रदेश की पीड़ा को समझने वाला नेता उत्तराखंड की धरती पर जन्म लेगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here