स्लाॅटर हाउस बंदःउत्तराखण्ड में अवैध रूप से बिक रहा मांस

0
280

देहरादून। उत्तराखण्ड हाईकोर्ट ने राज्य के सभी जिलों के 13 डीएम को नोटिस जारी कर पूछा है कि अगर राज्य में स्लॉटर हाउस बंद है तो बाजारों में मीट बिकरी कैसे रही है। यह लोग कहां से मीट लेकर आ रहे हैं। कोर्ट ने सभी डीएम को आदेश दिया है कि 30 सितम्बर तक कोर्ट में शपथ पत्र दाखिल कर बताएं कि दुकानों और होटल, रेस्टोरेंट में बेचे जाने वाला मीट आखिर आ कहां से रहा है। सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने कहा के हरिद्वार ने कमिश्नर से आरटीआई मांगी थी की कितने स्लॉटर हाउसों की अनुमति दी गई है जिसमें कहा गया है कि कोई भी स्लॉटर हाउस की अनुमति नहीं दी गई है। बता दें कि पिछले साल हाईकोर्ट ने राज्य में 72 घंटों के दौरान अवैध स्लॉटर हाउसों को बंद करने का आदेश दिया था। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा था कि कहीं भी खुले में स्लॉटर नहीं किया जा सकता है। इस आदेश के बाद राज्य में सभी स्लॉटर हाउसों पर ताले जरूर लगे मगर राज्य के होटल, रेस्टोरेंट और दुकानों में मीट लगातार बिकता पाया गया है। राज्य सरकार ने इस मामले को सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज किया है लेकिन उसे कोई स्टे नहीं मिला है। हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान सरकार ने कहा कि यह मामले सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है, हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से सुप्रीम कोर्ट के आदेश की कॉपी मांगी तो सरकार दिखा नहीं सकी. कोर्ट ने पूरे मामले पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा है कि अगर 30 सितम्बर तक कोई संतोषजनक उत्तर सरकार नहीं दे पाएगी तो राज्य में अवैध रुप से बिक रहे मांस को बंद करना पड़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here