उत्तराखण्ड में लगातार घट रहा है दूध उत्पादन

0
167

देहरादून। उत्तराखंड में भी दूध उत्पादन में गिरावट देखी जा रही है, जो खासी चिंता का विषय है। उत्तराखंड डेयरी फेडरेशन के मुताबिक वर्ष 2018-19 में दूध का उत्पादन पूरे प्रदेश में रोजाना एक लाख 85 हजार लीटर के करीब हुआ करता था, जो अब घटकर करीब एक लाख 70 हजार लीटर के करीब पहुंच गया है। ऐसे में अब डेयरी विभाग दूध उत्पादन के लिए अतिरिक्त डेरी समिति खोलने के साथ-साथ पशुपालकों को एनसीडीसी योजना के तहत दुधारू पशु भी उपलब्ध कराने जा रहा है। जिससे प्रदेश में दूध का उत्पादन बढ़ सके। गौरतलब है कि प्रदेश में दूध उत्पादन घटने का मुख्य कारण पशुपालकों का अब पशुपालन से मोहभंग होना बताया जा रहा है। अब पशुपालक गाय या भैंस खरीदने के बाद जब तक वह दूध देती है तब तक उसे अपने पास रखता है और दूध बंद हो जाने के बाद उसको बेच देता है। यही नहीं गांव और पहाड़ों से हो रहा पलायन लोगों को पशुपालन से दूर कर रहा है। जिसके चलते दूध उत्पादन नहीं हो पा रहा है। वहीं उत्तराखंड डेयरी फेडरेशन के निदेशक जीवन सिंह नगन्याल के अनुसार प्रदेश में दूध का उत्पादन घटना चिंता का विषय है। जिसको देखते हुए अतिरिक्त डेयरी समितियां खोली जाएंगी। साथ ही एनसीडीसी योजना के तहत पशुपालकों को पांच दुधारू पशु दिए जाएंगे। इस योजना के तहत पशुपालक सब्सिडी के माध्यम से पशु खरीद सकता है. साथ ही डेयरी विभाग अपनी आय में वृद्धि कर सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here