दिलवर सिंह बिष्ट
रुद्रप्रयाग।मोनाल स्नो एडवेंचर कार्निवाल के सातवें दिन केदारनाथ विधायक मनोज रावत व जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने पर्यटन गांव सारी में पहाडी ब्यजनों का

निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान रसोई विशेषज्ञ विजय लक्ष्मी गुसांई द्वारा विभिन्न स्वयं सहायता समूहो को दिये गये पहाड़ी व्यंजनों के प्रशिक्षण के बारे में रूबरू करवाया। विधायक व जिलाधिकारी ने महिला समूहों द्वारा बनाए गये पहाडी ब्यंजनों की प्रसंशा करते हुए कहा कि यदि भविष्य में आम महिलाएं व होम स्टे संचालक पहाडी ब्यनजनो का प्रशिक्षण लेते हैं यो युवाओं व महिलाओं के सम्मुख स्वरोजगार के अवसर प्राप्त होंगे। विधायक केदारनाथ व जिलाधिकारी को स्थानीय महिलाओं ने बताया कि आधुनिक तरीके से किस तरह से हम अपने पहाड़ी व्यंजनों को विश्व विख्यात कर सकते है। व्यंजनों में आरसा, रोटने, उड़द दाल की पकौड़ी, झंगोरा की खीर, काफुलू, मंडवे की रोटी आदि ब्यनजनो का स्वाद जिलाधिकारी व विधायक केदारनाथ ने लिया। महिलाओं ने कहा कि समय-समय पर ऐसे प्रशिक्षण गांव में दिए जाने चाहिए जिससे यहां पर आने वाले पर्यटक उत्तराखंड के व्यंजनों के बारे में जान सकें और प्रशिक्षण के साथ की तुंगनाथ घाटी में महिलाओं के स्वरोजगार से आजीविका बढे सके।
सारी गॉव की महिला समूहों एवं होम स्टे संचालको को पहाड़ी खाने की रसोई की विशेषज्ञ विजय लक्ष्मी गुसाईं द्वारा महिलाओं को खान पान के बारे में प्रशिक्षण दिया। उन्होंने पहाड़ी खाने के महत्व को समझाते हुए उन्हें खाना परोसने की विधि भी बताई गई। ब्लाक मिशन मैनेजर मनोज कोठारी ने बताया कि शनिवार शाम को उसाडा के स्टेडियम में आयोजित आह्वान कार्यक्म में प्रतिभाग करने वाले सभी प्रतिभागियों को स्वंय सहायता समूह सारी, पठाली, उसाडा, भींगी, मक्कू व पाव के द्वारा स्थानीय ब्यंजन परोसे जायेंगे।
आयोजक समिति सदस्य कैलाश पुष्पवान, प्रदीए बज्जवाल ने बताया कि कार्यक्रम में स्थानीय ढोल दमाऊ की प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही है। इस मौके पर प्रधान मनोरमा, सेवा निवृत्त निदेशक एमएनआरई भारत सरकार बीएस नेगी, राकेश नेगी, विक्रम ,नर्वदा देवी, सुरेशी, सरोज, जमुना देवी, करमवीर कुंवर, दिवाकर गैरोला, कुंवर बज्जवाल, राजेश्वरी देवी, दशमी देवी मैठानी आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here