भाजपा में शामिल बागियों को लेकर पूर्व सीएम हरीश रावत का बड़ा बयान

0
122

देहरादून। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं पूर्व सीएम हरीश रावत ने फिर दोहराया कि साल 2016 में पार्टी छोड़ने वाले लोगों की वापसी पर तब तक विचार नहीं होना चाहिए, जब तक वो सार्वजनिक रूप से माफी न मांग लें। बकौल हरीश रावत, लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई सरकार को अस्थिर करने वाले लोग लोकतंत्र के अपराधी हैं और उत्तराखंड के भी।
साल 2016 में अस्थिरता से राज्य को विकास के मोर्चे पर बड़ा नुकसान उठाना पड़ा।रावत का यह बयान मंत्री हरक सिंह रावत के चुनाव न लड़ने के बाद उनके दूसरा नया सियासी आशियाना तलाशने की चर्चाओं के बीच आया है। हालांकि हरक ने अब तक यह नहीं कहा कि, वो कोई ऐसा कदम उठाने जा रहे हैं।
हरक का कहना है कि उन्होंने चुनाव न लड़ने का निर्णय किया है। बाकी हाईकमान का निर्णय सर्वोपरि। हरक के बयान के बाद नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह के नरम बयानों से संदेश गया कि कांग्रेस हरक के स्वागत के लिए तैयार है। रावत ने बीते रोज भी अपना विरोध जाहिर कर दिया था। रविवार को उन्होंने फिर कहा कि, पार्टी में विभाजन करने वाले लोगों के प्रति उनका रुख यथावत है। इन लोगों को लोकतंत्र और राज्य से सार्वजनिक रूप से माफी तो मांगनी ही होगी। कुछ नेताओं के प्रति जिस प्रकार स्वागतभाव दिखाया गया वो ठीक नहीं।