पटना में 2 ठेकेदारों के ठिकानों पर छापेमारी, करोड़ों की बेनामी संपत्ति जब्त

0
184

पटना : नल जल योजना से जुड़े दो बड़े ठेकेदारों के यहां आयकर विभाग ने छापेमारी की है। इस छापेमारी में करोड़ों की संपत्ति का खुलासा हुआ है। पटना में दोनों ठेकेदारों के ठिकानों पर छापेमारी की गई है, जिसमें करीब 50 लाख रुपये नकद बरामद हुए हैं। करोड़ों की बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ है। दोनों ठेकेदारों के नाम ललन कुमार और सुमन कुमार बताए जा रहे हैं। ये दोनों ठेकेदार भागलपुर के बताए जा रहे हैं।

आयकर विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हनुमान नगर, पाटलीपुत्र कॉलोनी, फ्रेजर रोड स्थित आवास और कार्यालय पर आयकर विभाग की छापेमारी हुई है। इसके अलावा पटना दीघा और नालंदा के हिलसा में भी कार्रवाई हुई है।

तेजस्वी यादव बोले-घोटालों की भरमार है
नल जल योजना के ठेकदारों के ठिकानों पर छापेमारी पर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि ये तो बानगी है। घोटालों की भरमार है। बिहार में नीतीश और सुशील मोदी की सरकार में सृजन समेत 60 घोटाले हुए हैं। नीतीश सरकार में भ्रष्टाचार बड़े पैमाने पर हुआ है। 60 घोटाले हुए हैं, नीतीश सरकार ने खुद विधानसभाा में स्वीकार किया है।

एलजेपी नेता चिराग पासवान ने छापेमारी पर कहा कि 7 निश्चय से जुड़ी जितनी भी योजनाएं हैं उन सबमें गड़बड़ी हुई है। ये तो शुरुआत है। 7 निश्चय से जुड़ी जितनी भी योजनाएं हैं उन सबमें घोटाले हुए हैं। जांच होगी तो कई और खेल सामने आएंगे। बिहार के इतिहास में सबसे बड़ा घोटाला 7 निश्चय है।

आरएलएसपी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि गरीब लोगों के विकास के नाम पर धन की लूट हुई है। नल जल योजना ठीक से काम नहीं कर रही है। बिहार की सरकार ने पैसों को केवल लूट के लिए खर्च किया है।

इस छापेमारी पर बिहार बीजेपी के प्रभारी भूपेंद्र यादव ने कहा कि जो गड़बबड़ी की शिकायत थी इसलिए कार्रवाई हुई है। प्रशासनिक ईमानदारी और प्रशासनिक पारदर्शिता इस सरकार की विशेषता रही है। निश्चित रूप से पारदर्शिता के सारे नियमों का पालन हुआ है।